अध्यक्ष का सन्देश

“संगमरमर की एक ब्लॉक के लिए मूर्तिकला क्या है, शिक्षा मानव आत्मा के लिए है। दार्शनिक, संत, नायक, ज्ञानी, और अच्छा, या महान, बहुत अक्सर झूठ बोलता है और एक फुफकार में छुपा होता है, जिसे एक उचित शिक्षा ने निराश किया और प्रकाश में लाया जा सकता है। " एडिसन।... आगे पढ़ें

फोटो गैलेरी

वर्तमान सदस्य


मध्यप्रदेश निजी विश्वविद्यालय (स्थापना एवं संचालन) अधिनियम 2007 यथा संशोधित की धारा 36 (1) में विनिर्दिष्ट प्रावधानानुसार राज्य निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग का संगठन निम्नानुसार होगा :-

  • विनियामक आयोग, कुलाध्यक्ष के सामान्य नियंत्रण के अधीन कार्य करेगा.
  • विनियामक आयोग में एक सभापति (चेयरमैन) और दो पूर्णकलिक सदस्य होंगे जिनमे से एक "सदस्य-शैक्षणिक" तथा दूसरा "सदस्य-प्रशासनिक" होगा तथा दो से अनाधिक अंशकालिक सदस्य होंगे
  • विनियामक आयोग में एक पूर्णकालिक या अंशकालिक सचिव होगा.
  • विनियामक आयोग में एक मुख्या कार्यकाल अधिकारी व् एक प्रबंधक (वित् एवं प्रबंधन ) भी  होगा.

 

Chairman अध्यक्ष


डॉ. भरत शरण सिंह
फ़ोन:
इ-मेल:

सदस्य शैक्षणिक सदस्य शैक्षणिक


डॉ प्रदीप श्रीवास्तव
फ़ोन: 0755-2490322, मो :
इ-मेल:

 

सदस्य प्रशासनिक सदस्य प्रशासनिक


डॉ विश्वास चौहान
फ़ोन: 0755-2490322, मो : ,
इ-मेल:

 

सदस्य शैक्षणिक - अंशकालिक सचिव 
अंशकालिक - सदस्य 

 

डॉ सचिन तिवारी 

मो : 


इ-मेल: 

 

 

डॉ के पी साहू 

मुख्य कार्यकारी अधिकारी प्रबंधक ( वित्त एवं प्रबंधन )  
 sec


डॉ. एस.डी. सिंह 


फ़ोन:0755-2490322

इ-मेल: यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.

 

 sec

 

श्री नितिन सांगले


फ़ोन:0755-2490322

इ-मेल: यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.

 

 

विशिष्ट प्रयोजनों के लिए आयोग के साथ व्यक्तियों का अस्थायी सहयोजन:-

  • विनियमक आयोग स्वयं किसी भी व्यक्ति को, जिसकी सहायता या सलाह वह अधिनियम या उसके बनाये गए नियमो के किन्ही उपबंधों के क्रियान्वयन के लिए चाहता है, अपने साथ सहयोजित कर सकेगा
  • उपनियम (१) के अधीन आयोग द्वारा उपरोक्त किसी भी सम्मिलन में जिसमे सुसंगत प्रयोजन आयोग के सम्मिलन के एजेंडा मद के रूप में सम्मिलित है, में भाग लेने हेतु आमंत्रित किया जा सकेगा किन्तु ऐसे व्यक्ति को आयोग के सम्मिलन में मद देने का अधिकार नहीं होगा जो किसी अन्य प्रयोजन के लिए सदस्य नहीं होगा .