Message From Chairman

The advent of the modern era necessitates the need  for a positive change in our attitude towards the important area of higher education....

The newly generated and promoted areas of interest like Human Health Read More

Photo Gallery

वर्तमान सदस्य


मध्यप्रदेश निजी विश्वविद्यालय (स्थापना एवं संचालन) अधिनियम 2007 यथा संशोधित की धारा 36 (1) में विनिर्दिष्ट प्रावधानानुसार राज्य निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग का संगठन निम्नानुसार होगा :-

  • विनियामक आयोग, कुलाध्यक्ष के सामान्य नियंत्रण के अधीन कार्य करेगा.
  • विनियामक आयोग में एक सभापति (चेयरमैन) और दो पूर्णकलिक सदस्य होंगे जिनमे से एक "सदस्य-शैक्षणिक" तथा दूसरा "सदस्य-प्रशासनिक" होगा तथा दो से अनाधिक अंशकालिक सदस्य होंगे
  • विनियामक आयोग में एक पूर्णकालिक या अंशकालिक सचिव होगा.

 

Chairman अध्यक्ष

डॉ. मोरध्वज सिंह परिहार
मध्य प्रदेश निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग

फ़ोन: 0755-2490322
इ-मेल : This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.
सदस्य-पूर्णकालिक सदस्य-अंशकालिक
Chairman 

सदस्य प्रशासनिक

डॉ. स्वराज पुरी
फ़ोन: 0755-2490322, मो : 9425600042,
इ-मेल: This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

Chief Executive Officer 

सदस्य शैक्षणिक

श्रीमती नयनतारा पाठक
मो : 9425600876,

इ-मेल: This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

मुख्य कार्यकारी अधिकारी सचिव एवं प्रबंधक ( वित्त एवं प्रबंधन ) 
image CEO 

डॉ. एस.डी. सिंह 

फ़ोन:0755-2490322

इ-मेल: This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

sec

श्री नितिन सांगले

फ़ोन:0755-2490322

इ-मेल: This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

 

विशिष्ट प्रयोजनों के लिए आयोग के साथ व्यक्तियों का अस्थायी सहयोजन:-

  • विनियमक आयोग स्वयं किसी भी व्यक्ति को, जिसकी सहायता या सलाह वह अधिनियम या उसके बनाये गए नियमो के किन्ही उपबंधों के क्रियान्वयन के लिए चाहता है, अपने साथ सहयोजित कर सकेगा
  • उपनियम (१) के अधीन आयोग द्वारा उपरोक्त किसी भी सम्मिलन में जिसमे सुसंगत प्रयोजन आयोग के सम्मिलन के एजेंडा मद के रूप में सम्मिलित है, में भाग लेने हेतु आमंत्रित किया जा सकेगा किन्तु ऐसे व्यक्ति को आयोग के सम्मिलन में मद देने का अधिकार नहीं होगा जो किसी अन्य प्रयोजन के लिए सदस्य नहीं होगा .